Bhikhari Thakur – भिखारी ठाकुर

Like Biharplus Official Page on Facebook – biharplus facebook official page

designing services in patna, website designing work in patna, creative services in patna, patna designing house, brochure designing work in patna, brochure designing work in new delhi, advertisement designing in new delhi, advertisement desinging in patna

Contact us for Designing services of Print, web, flash presentations, emailer, brochure designing. visit our website www.octopusinc.in

wedding photographer in patna, wedding photographer in new delhi, freelance wedding photographer in patna, freelance wedding photographer in new delhi, wedding photographer in bihar, bihar wedding photographer, bihar freelance wedding photographer, commercial photographer in patna, commercial photographer in bihar

We provide Pre wedding, post wedding and wedding photography services in patna and new delhi. Click on the Banner to see our work.

एक आम आदमी जिसने भोजपुरी को बना दिया खास…
भिखारी ठाकुरएक आम आदमी के सतह से शिखर तक की बेजोड़ मिसाल हैं भिखारी ठाकुर… बहुत कम लोग होते हैं जो जीते-जी विभूति बन जाते हैं… दरअसल, इस भिखारी ठाकुर की जीवन-यात्रा भिखारी से ठाकुर होने की यात्रा ही है…फर्क सिर्फ यह है कि लीजेंड बनने की यह यात्रा भिखारी ने किसी रुपहले पर्दे पर नहीं असल ज़िंदगी में जिया.
भोजपुरी के नाम पर सस्ता मनोरंजन परोसने की परंपरा भी उतनी ही पुरानी है, जितना भोजपुरी का इतिहास….18 दिसंबर 1887 को छपरा के कुतुबपुर दियारा गांव में एक निम्नवर्गीय नाई परिवार में जन्म लेने वाले भिखारी ठाकुर ने विमुख होती भोजपुरी संस्कृति को नया जीवन दिया…..उन्होंने भोजपुरी संस्कृति को सामीजिक सरोकारों के साथ ऐसा पिरोया कि अभिव्यक्ति की एक धारा भिखारी शैली जानी जाने लगी…आज भी सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार का सशक्त मंच बन कर जहाँ-तहाँ भिखारी ठाकुर के नाटकों की गूंज सुनाई पड़ ही जाती है….बिदेसिया, गबर-घिचोर, बेटी-बियोग भा बेटी-बेचवा सहित उनके सभी नाटकों में बदलाव को दिशा देने वाले एक सामाजिक चिंतक की व्यथा साफ दिखती है….सबसे बड़ी बात कि उनके नाटकों में पात्र कभी केंद्र में नहीं रहे, हमेशा परिवेश केंद्र में रहा….यही वजह थी कि उनके पात्रों की निजी पीड़ा सार्वभौमिक रुप अख्तियार कर लेती थी… हर नयी शुरुआत को टेढ़ी आंखों से देखने वाले भिखारी के दौर में भी थे…सामाजिक व्यवस्था के ऐसे ठेकेदारों से भिखारी अपने नाटकों के साथ लड़े…वो अक्सर नाटकों में सूत्रधार बनते और अपनी बात बड़े चुटीले अंदाज़ में कह जाते….अपनी महीन मार की मार्फत वो अंतिम समय तक सामाजिक चेतना की अलख जगाते रहे….कोई उन्हें भरतमुनि की परंपरा का पहला नाटककार मानता हैं तो कोई भोजपुरी का भारतेंदू हरिश्चंद्र…..महापंडित राहुल सांकृत्यायन ने तो उन्हें “भोजपुरी का शेक्सपियर” की उपाधि दे दी…..इसके अलावा उन्हें कई और उपाधियाँ व सम्मान भी मिले….भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया….. इतना सम्मान मिलने पर भी भिखारी गर्व से फूले नहीं, उन्होंने बस अपना नाटककार ज़िंदा रखा…पूर्वांचल आज भी भिखारी से नाटकों से गुलज़ार है….ये बात अलग है कि सरकारी उपेक्षा का शिकार इनके गांव तक अब भी नाव से ही जाना पड़ता है….

courtesy- राममुरारी के साथ निखिल आनंद गिरि

Bhikhari Thakur Bhojpuri Language