Bihar State Pavilion is Focus State in 31st IITF 2011

Like Biharplus Official Page on Facebook – biharplus facebook official page

designing services in patna, website designing work in patna, creative services in patna, patna designing house, brochure designing work in patna, brochure designing work in new delhi, advertisement designing in new delhi, advertisement desinging in patna

Contact us for Designing services of Print, web, flash presentations, emailer, brochure designing. visit our website www.octopusinc.in

wedding photographer in patna, wedding photographer in new delhi, freelance wedding photographer in patna, freelance wedding photographer in new delhi, wedding photographer in bihar, bihar wedding photographer, bihar freelance wedding photographer, commercial photographer in patna, commercial photographer in bihar

We provide Pre wedding, post wedding and wedding photography services in patna and new delhi. Click on the Banner to see our work.

BIHARPAVILION Pragati Maidan, New Delhi
Tel: +91-11-23371201

प्रेस विज्ञप्ति

व्यापार मेले में आयोजित बिहार दिवस पर गायिका नमिषा षंकर एवं एष्वर्य निगम ने बांधा समां

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में इन दिनों अंतर्राश्ट्रीय व्यापार मेले की धूम है। मेले के दौरान विभिन्न राज्यों के पवेलियन द्वारा राज्य दिवस के अवसर पर आयोजित होने वाले रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम यहां आने वाले दर्षकों के लिए दिन भर की थकावटों को मनोरंजक कार्यक्रम देखकर दूर करने का अच्छा मौका प्रदान करता है। इसी क्रम में बिहार पवेलियन द्वारा आयोजित बिहार दिवस के अवसर पर हंसध्वनि थियेटर में एक रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें गायिका गायिका निमिषा षंकर एवं एष्वर्य निगम ने अपनी गायिकी से समां बांध दिया। षाम होते ही हंसध्वनि थियेटर में दर्षकों का हुजूम अपनी चहेती गायिका को सुनने के लिए आना षुरु हो गया तथा छः बजते बजते हंसध्वनि थियेटर दर्षकों से खचाखच भर गया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम का षुभारंभ मुख्य अतिथि के रुप में मौजूद बिहार के मुख्य सचिव श्री नवीन कुमार ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर उधोग विभाग के प्रधान सचिव श्री सी.के. मिश्रा, बिहार सरकार के स्थानिक आयुक्त श्री अलोक वर्धन चतुर्वेदी, बियाडा की एमडी श्रीमती अंषुली आर्या, उधोग विभाग के निदेषक श्री विमला नंद झा, बिहार पवेलियन के डायरेक्टर उमेष कुमार सिंह, उपेन्द्र महारथी षिल्प संस्थान के उपविकास अधिकारी श्री अषोक कुमार सिन्हा सहित बिहार सरकार के कई पदाधिकारी गण मौजूद थे।

रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम की षुरूआत बिहार के लोकनृत्य की टोली ने की उसके बाद लोक गायिका पुश्पा प्रसाद ने लोक गायिकी से भरपूर मनोरंजन किया। फिर निमिषा षंकर जैसे ही मंच पर आई दर्षकों ने पूरे उत्साह के साथ तालियों से उनका स्वागत किया। निमिषा ने भी दर्षकों की इतनी बड़ी हुजूम को देख उत्साहित हो कई मषहूर फिल्मी व बिहारी एवं भोजपुरी लोकगीत गाकर दर्षकों को झूमने व नाचने पर मजबूर कर दिया। निमिषा ने मुन्नी बदनाम हुई…… जैसे बेहद लोकप्रिय फिल्मी गीतों पर दर्षकों को जमकर नचाया। रही सही कसर एष्वर्य निगम ने अपनी जोष भरे परफॉरमेंष से पूरा कर दिया। अभिशेक ने दबंग के मुन्नी रे ….. से षुरू करते हुए दर्दे डिस्को… सहित एक बढ़कर एक हिट फिल्मी गीत गाकर दर्षकों मंच के पास आकर झूमने पर मजबूर कर दिया।
—————————————————–
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करेः रविन्द्र कुमार झा, ;पीआरओ, बिहार पैवेलियनद्धए मो. 09899235055

Bihar artist performing at IITF 2011

Bihar artist performing at IITF 2011

Bihar artist performing at IITF 2011

Bihar artist performing at IITF 2011

Bihar artist performing at IITF 2011

Bihar artist performing at IITF 2011

Pushpa prasad Bihar artist performing at IITF 2011

Pushpa prasad Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

Nimisha Shankar Bihar artist performing at IITF 2011

———————————————————————————————————-

Bihar-State-Pavilion-is-Focus-State-in-31st-IITF-2011-01

Bihar-State-Pavilion-is-Focus-State-in-31st-IITF-2011-01

Bihar-State-Pavilion-is-Focus-State-in-31st-IITF-2011-01

Bihar-State-Pavilion-is-Focus-State-in-31st-IITF-2011-01

Press Release
Bihar achieved tremendous growth in various sectors – C.K Mishra

Good investment environment in Bihar

Bihar State Pavilion is Focus State in 31st IITF 2011

New Delhi: 13 November 2011: Our great achievement is in female education through Mukhya Mantri Bicycle Yojna and when you take health then there are no polio victims in Bihar since last 2 years, we are happy to come out of these challenges. “Many investors are going to start their unit in Bihar, says Mr. C. K. Mishra, Principal Secretary, Department of Industry, Govt. of Bihar while addressing a press meet in Delhi on decoration, preparation, displaying and showcasing of Bihar Pavilion in31st edition of India International Trade Fair 2011. He spoke about growth of Bihar in various major sectors like powers, Health, education, roads and transportation.. Our main focus is to create environment for investors so that we can see growth in different segments, we also announce Bihar I T Policy 2011 and Renewal Policy 2011 to attract investors. Around 200 projects in our department are ongoing”, he further added. Mr. Alok Vardhan Chaturvedi (Resident commissioner, Bihar) and Mrs. Anshuli Arya (Managing Director, Bihar Industrial Area Development Authority) were also present on this occasion.

Mrs. Anshuli Arya MD BIADA gave the information about the Exhibition and Showcasing in Bihar Pavilion. She said, Raja Salhesh, of Mithila Kingdom has been immortalized this year by the Bihar Government through the usage of his statue in terracotta at its front fascia of Bihar Pavilion at India International Trade Fair (IITF) 2011. This holds great significance as it depicts the ancient rich history of Bihar. The Bihar Industrial Area Development Authority (BIADA), the nodal agency of Bihar Pavilion for the fair to showcase according to the theme of this year given by ITPO- “Indian Handicraft – The Magic of Gifted Hands”,

Mr. C. K. Mishra says, Bihar Pavilion has mirrored the progress achieved by the State in diverse sectors of the economy and would undoubtedly promote a better assessment of the opportunities offered by the state for industry and investments. Mr. C. K. Mishra said this year’s IITF had great significance for Bihar as it is participating as the focus State. He said, we are bridging our trust deficit and uniting the various section of the society. Bihar is well and truly on the road to economic transformation. With your trust and support, Bihar would definitely become a developed state by 2015. Compared to our neighboring states, our rate of average annual development has increased at a much faster space. According to the Central Statistical Organization, in2008-09 our average annual development rate was 24.33% at current prices and 16.59% at constant prices. Our government has insured better administration and financial management in order to provide good governance.

Like every year Bihar Diwas will be celebrated to serve Bihar Heritage and Culture on 21st November 2011. Mr. Alok Vardhan Chaturvedi (Resident commissioner, Bihar) said The Delhi Chapter of Bihar Foundation and Industries Department will organize a workshop on Bihar Business, Economy and Development at Hall number 8 on Nov 18 as well as a seminar on Handicrafts will be organize on 22 Nov at Pragati Maidan under the joint aegis of Upendra Maharathi Shilpa Sanstha and Industry Development.

Bihar is famous for its many mythological stories this has been mirrored at Bihar Pavilion 2011 – The “Gauravshali” through various aspects. While a travelogue to the pavilion of Bihar you can come across an assortment of historical & modern art and culture of this place which is still followed by the dwellers. When you enter the Pavilion, you can witness the famous silk saris displayed by a mannequin as well as the weaving process is being demonstrated. On moving ahead a unique handicraft gallery is set up where you can view various arts & crafts of Bihar. A wide range of silk items, Sikki art, wooden art, Bamboo art, Terracotta art and Mithila prints are being displayed to bring an essence of Bihar. Pavilion Director Umesh Kumar Singh said that the theme hall will have all the details of Bihar Handicraft. It will also showcase the rich history and modern arts of Bihar. Bihar is not about having a glorious past but Bihar is also about a bright future. Through this theme “Indian Handicraft – The Magic of Gifted Hands” we can bring back in spotlight the suppressed art prevailing in the state of Bihar and can enrich the tradition and culture besides this, it will be attractively displayed.

Pavilion Director Umesh Kumar singh said, for the attraction of the coming visitors in Bihar pavilion, there will be around 40 stall on Upper Floor of Bihar Pavilion. The stalls of Handloom and Handicraft, Bhagalpuri Silk, Mithila Paintings, Siki products, Stone made elephant of Bhabhua Stone, Jewellery from ship of Mahesi, Motihari Terracotta products, jute products like jute jewellery, Tikuli Art, Nepura silk of Nalanda & famous handloom bed sheets of Biharshariff will be the attraction among the visitors.

————————————————————————————————————
For Further Information please contact:
Image Creations, Rabindra Kr. Jha, (PRO-BIHAR PAVILION, 31th IITF 2011), M: 09899235055

Hindi Press Release

प्रेस विज्ञप्ति

प्रगति का मूल मंत्र लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करना होता है जिसमें बिहार राज्य सफल रहा है-सी.के. मिश्रा

बिहार मंडप में होगी बिहार के पाशाणकालिन षिल्पकला से लेकर आधुनिक षिल्पकला के दर्षन

नई दिल्ली। किसी भी देष या राज्य के विकास व प्रगति का मूल मंत्र होता है लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करना जिसमें बिहार पहले चार पांच वर्शो में लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करने में सफल रहा है। इसी का परिणाम है कि बिहार आज देष के अग्रणी प्रगतिषील राज्यों के श्रेणी में षामिल हो गया है। यह बात बिहार सरकार के उधोग विभाग के प्रधान सचिव श्री सी.के. मिश्रा ने दिल्ली में बिहार पवेलियन के बारे में जानकारी देने के लिए आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा। उन्होंने कहा कि आज बिहार में कानून का राज्य है जो सरकार की सबसे बडी सफलता है। बिहार सरकार आगामी तीन वर्श विकास की गुणवता पर विषेश जोर देगा। श्री मिश्रा ने कहा कि बिहार आज हर क्षेत्र में सफलता की नीत नई इतिहास रच रहा है। इतिहास में यह पहला अवसर पर है जब बिहार में दो वर्श से एक भी पोलियो का मामला नहीं आया है और पिछले दो वर्श से बिहार पोलियो मुक्त रहा है। सितम्बर 2009 में एक पोलियो का मामला आया था उसके बाद से कोई मामला नही आया है। इसी तरह टीकाकरण में भी राज्य 2010-2011 में 54 प्रतिषत टीकाकरण करके राश्ट्रीय औसत से पहली बार उपर रहने में सफल रहा है।

श्री सी.के. मिश्रा ने राज्य में औधोगिक विकास के बारे में बताते हुए कहा कि 2011 में काफी नये उधोग स्थापित किए जा रहे हैं। जिसके लिए अधिक से अधिक श्रम षक्ति की जरुरत होगी। बिहार सरकार औधोगिक विकास में बिहार के युवा को भागीदार बनाने के लिए षिक्षा पर विषेश जोर दे रहा है ताकि अधिक से अधिक निपुण हाथ आगे आये और उन्हें ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिले। उन्होंने कहा कि सडक निर्माण के क्षेत्र मेंबिहार अनय राज्य से काफी आगे निकल गया है तथा 2010-11 के योजना लक्ष्य में 93.4 प्रतिषत का लक्ष्य प्राप्त करते हुए एक कीर्तिमान स्थापित किया है। कृशि में भी पिछले तीन वर्शो में काफी प्रगति हुई है। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार के नीतियों तथा बिहारवासियों व बिहार में निवेष करने वालों के सहयोग से निष्चित तौर पर 2015 तक बिहार भारतीय मानचित्र पर एक विकसित व अग्रणी राज्य के रुप में उभर कर आयेगा। उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों की तुलना में हमारे औसत विकास का दर काफी तेज है। सेंट्रल स्टेटिस्टकल संस्थान के अनुसार 2008-2009 में हमारा औसत वार्शिक विकास दर वर्तमान मुद्रा दर से 24.33 प्रतिषत एवं स्थिर मुद्रा दर के आधार पर 16.59 प्रतिषत रहा है। ट्रेड फेयर में बिहार पवेलियन के बारे में जानकारी देते हुए श्री सी.के. मिश्रा ने कहा कि हमारे लिए यह गौरव की बात है कि 31वें ट्रेड फेयर में बिहार पवेलियन को फोकस स्टेट बनाया गया है।

फोकस स्टेट होने के कारण बिहार पवेलियन को मेले में मंडप को खास पहचान देने के लिए इस वर्श के थीम ‘‘इंडियन हैण्डीक्राफ्ट्स-द मैजिक ऑफ गिफ्टेड हैड्स’’ के अनुरुप पूर्ण रुप से तैयार किया जा रहा है। श्री सी.के. मिश्रा ने कहा कि इस बार बिहार मंडप लोगों के लिए खास होगा, जहां बिहार की समृद्ध ऐतिहासिक व परंपरागत हस्तषिल्प कलाकृतियों के साथ आधुनिक षिल्पकला की अद्भूत कलाकृतियां देखने को मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस बार बिहार पवेलियन को मेले की थीम-‘भारतीय हस्तषिल्प कला निपुण हाथों का जादू’ के अनुरुप सजाया व संवारा गया है। इस बार मेले के थीम षिल्पकारों के हाथों के चमत्कार को बनाया गया है और बिहार मे कलाकारों को षिल्पकला की अद्भूत नमूने पाशण युग से ही मिलते रहे हैं। इसका नमूना गया के पास स्थित ‘पत्थरकटी षिल्प’ है। इसी को दर्षाने के लिए मंडप के मुख्य द्वार के दाहिनी तरफ पीपल के पत्ते की आकृति पर भगवान बुद्ध की मूर्ति को ‘‘थ्रीडी में दर्षाया जाएगा, वहीं मुख्य द्वार के बायीं ओर मिट्टी को चाक पर नायाब आकार देते टैरोकोटा कलाकार की अद्भूत मूर्तियां लोगों को लुभाएगा। इसके अलावा बिहार मंडप के प्रवेष द्वार के उपरी हिस्से पर गौरवषाली बिहार की झलकियां प्रदर्षित की जाएगी।

बिहार सरकार के स्थानिक आयुक्त श्री अलोक वर्धन चतुर्वेदी ने कहा कि बिहार का गौरवमयी व उज्जवल इतिहास की झलकियां बिहार पैवेलियन में देखने को मिलेगा। मंडप के उपरी तल पर विभिन्न स्टॉलों के माध्यम से बिहार की रंग बिरंगी कला संस्कृति, समृद्ध इतिहास और परंपरागत हस्तषिल्प कला का दर्षन होगा। उन्होंने मेले के दौरान आयोजित कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 18 नवम्बर 2011 को उधोग विभाग बिहार फॉउंडेषन दिल्ली चेप्टर के साथ मिलकर प्रगति मैदान के हाल न.8 में एक बिजनेस सेमिनार- बिहार बिजनेस इकोनोमी एंड डेवलपमेंट’’ का आयोजन करेगा तथा 21 नवम्बर बिहार दिवस के अवसर पर हंसध्वनि थियेटर में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजिन किया होगा। इसके अलावा 22 नवम्बर को उपेन्द्र महारथी षिल्प अनुसंधान संस्थान के साथ मिलकर हस्तषिल्प पर एक सेमिनार का आयोजन भी किया जायेगा।

इस अवसर पर बियाडा की प्रबंध निदेषिका श्रीमती अंषुली आर्या ने कहा कि दर्षक जब बिहार मंडप के अंदर प्रवेष करेंगे तो उन्हें बिहार के पौराणिक षिल्पकला से लेकर आधुनिक षिल्पकला की भव्यता का आभास होगा। मंडप के बायीं तरफ बिहार के ग्रामीण षिल्पकलाओं को दिखाया जाएगा, जिसमें सिकी वर्क, धातु की कलाएं एवं बांस की कलाओं के अलावा मिथिला पेटिंग व अन्य षिल्पकला को दर्षाया जाएगा। बिहार पवेलियन थीम हॉल में इस वर्श के मेले के थीम के अनुरुप उपेन्द्र महारथी षिल्प अनुसंधान संस्थान द्वारा है हस्तषिल्प गैलरी बनाया गया है, जिसमें बिहार हैण्डीक्राफ्ट के नायाब कलाकृतियों का दर्षक दीदार करेंगे। हस्तषिल्प गैलरी से आगे बढ़ते ही दर्षकों के बिहार के सिल्क कला का दीदार होगा, जहां सिल्क की साड़ियां एवं परिधान पहने मॉडल के मेनकिन बिहार के सिल्क की जादू बिखेरते नजर आयेगा। जिसमें रैम्प पर चलते मॉडलों को बिहार के सिल्क साड़ियों में दिखाया गया है। आगे बढ़ते ही लोगों को निफ्ट के बिहार षाखा द्वारा हस्तकरधा का लाइव डेमो देखने को मिलेगा, जिसमें निफ्ट के छात्र बिहार के सिल्क साडियां एवं अन्य परिधान बनाते नज़र आयेगे।
———————————————-
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करेंः-
रविन्द्र कुमार झा, ;पीआरओ, बिहार पवेलियनद्धए मो. 09899235055