मॉरीशस के राष्ट्रपति कैलाश पुरयाग ने किया प्रथम भोजपुरी ग़ज़ल- अल्बम का विमोचन

महात्मा गांधी संस्थान,मॉरिशस । गिरमिटिया मज़दूरों के आगमन की 180वीं जयंती पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी साहित्य सम्मेलन के  उद्घाटन के अवसर पर मॉरीशस के राष्ट्रपति कैलाश पुरयाग ने सुपरिचित भोजपुरी शायर मनोज भावुक के भोजपुरी ग़ज़ल अल्बम ‘तस्वीर जिन्दगी के ’ का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर मॉरीशस के कला एवं संस्कृति मंत्री श्री एम. चुन्नी,मॉरीशस में भारतीय उच्चायुक्त श्री अनूप मुद्गल,  भोजपुरी स्पीकिंग यूनियन की चेयरपर्सन श्रीमती सरिता बुधु, उत्तर प्रदेश विधान सभा अध्यक्ष श्री माता प्रसाद पाण्डेय, मंत्री श्री अम्बिका चौधरी, लोक गायिका श्रीमती मालिनी अवस्थी आदि भी मंच पर उपस्थित रहे।

इस ग़ज़ल अल्बम में भावुक की आठ गजलों का समावेश है जिन्हें बॉलीवुड के प्रसिद्ध युवा गायक व संगीतकार सरोज सुमन  ने अपना स्वर दिया है । कॉन्सेप्ट प्रतिभा-जननी सेवा संस्थान के चेयरमैन मनोज सिंह राजपूत का है। वहीं संयोजन संस्था के नेशनल को-आर्डिनेटर आशुतोष कुमार सिंह का है।

ये ग़ज़लें मनोज भावुक की पुस्तक ”तस्वीर जिंदगी के ” से ली गई हैं।  इसी पुस्तक के लिए मनोज को सिनेहस्ती गुलज़ार और ठुमरी साम्राज्ञी गिरिजा देवी के हाथों भारतीय भाषा परिषद के युवा सम्मान 2006 से  नवाजा गया था।

भोजपुरी ग़ज़ल को दुनिया के तमाम भोजपुरी देशों में पहुंचाने की योजना है।  इसी योजना के तहत हिंदुस्तान में  वरिष्ठ समालोचक डॉ. नामवर सिंह, नेपाल में नेपाल सरकार के पूर्व मंत्री तथा संविधान सभा के अध्यक्ष अर्जुन नरसिंह केसी और अब मॉरिशस में मॉरीशस के राष्ट्रपति कैलाश पुरयाग के हाथों इस अल्बम का लोकार्पण हुआ।

ये ग़ज़लें भोजपुरी भाषाई अस्मिता की आवाज़ हैं।  इन्हें सुनते वक्त भोजपुरी की मिठास और उसके सामर्थ्य का साक्षात्कार होता है।